70 करोड रुपए से अधिक का सामान किस वाहन से आया, विभाग के पास नहीं है दस्तावेज, 2020 में राजभवन से की थी सीबीआई जांच की मांग – मोर्चा

देहरादून: जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि श्रम विभाग के भवन निर्माण एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के घोटालों का पर्दाफाश, मोर्चा द्वारा सबसे पहले जनवरी 2020 में किया गया था। इसी क्रम में मोर्चा द्वारा जनवरी 2020 में मुख्य सचिव से मिलकर घटिया सामान व वितरण में हुई अनियमितता को लेकर उच्च स्तरीय जांच की मांग की थी तथा राजभवन से मार्च 2020 में सीबीआई जांच का आग्रह किया था।                     

नेगी ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण तथ्य है कि विभाग द्वारा 11 करोड से अधिक मूल्य की साइकिलें, 30 करोड की सिलाई मशीन, 24 करोड की टूल किट, 5 करोड की इलेक्ट्रॉनिक टूल किट व करोड़ों की सोलर लालटेन, छाते आदि खरीदे गए थे, लेकिन विभाग के पास उस खरीदे गए सामान यथा साइकिलें, सिलाई मशीन, टूल किट आदि किस वाहन से आया, उस वाहन का नाम, वाहन संख्या  का कोई दस्तावेज उपलब्ध नहीं है। यानी सब हवा -हवाई हुआ है।

उन्होंने यह भी कहा कि विभागीय कमीशन खोरी के चलते खरीदे गए घटिया सामान को श्रमिकों ने विभाग से लेकर ओने पौने दामों में बाजार में नीलाम कर दिया। मोर्चा श्रम विभाग के घोटालों पर सिलसिलेवार प्रहार करेगा। 

खरीदे गए घटिया सामान का विवरण।

√Invoices क्लिक करें

70 करोड रुपए से अधिक का सामान किस वाहन से आया, विभाग के पास नहीं है दस्तावेज, 2020 में राजभवन से की थी सीबीआई जांच की मांग - मोर्चा 2