Video: मसूरी में फिर से पसरा सन्नाटा

मसूरी: दूसरे राज्यों से उत्तराखण्ड में आने पर पर्यटकों से आरटीपीसीआर की रिपोर्ट मांगे जाने पर मसूरी में पर्यटकों का आना बंद हो गया है, जिससे मसूरी का दिल कही जाने वाली माल रोड वीरान पड़ी हुई है। गांधी चौक से लेकर पिक्चर पैलेस तक की माल रोड में कोई भी पर्यटक दिखाई नहीं दे रहा है। जिससे यहां के व्यवसाय पर अनुकूल असर दिखाई देता पड़ रहा है।
व्यापारी अपने को अब ठगा सा महसूस कर रहे हैं। जो रोड वाहनों से भरी रहती थी, उस रोड पर इक्का-दुक्का वाहन ही दिखाई दे रहे हैं। मसूरी की रोपवे ट्रॉली व रेस्टोरेंट् सहित दुकानदार अपने प्रतिष्ठानों पर खाली बैठे हैं। दुकानदार मोबाइल पर ही अपना समय काटते दिखाई दे रहे हैं। रिक्शा व टैक्सीयों के टायर थम गए है।

यह भी पढ़ें: सावधान; साइबर क्राइम के बढ़ते मामले, किसी भी प्रकार की धनराशि जमा करने से पूर्व भली प्रकार जांच (भौतिक सत्यापन) अवश्य

मजदूर संघ के अध्यक्ष का कहना है कि जब से सरकार ने आरटीपीसीआर की रिपोर्ट को पर्यटकों के लिए उत्तराखण्ड में आने के पर अनिवार्य  किया है, तब से यहां पर्यटक नहीं आ रहे हैं। अब ऐसे में उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो रहा है।
वंही रिक्शा चालकों का कहना है कि जो रोज कमाता है और रोज खाता है, उनको ज्यादा दिक्कतें हो रही है। उन्होने कहा कि सरकार को इस पर देना चाहिए, जिससे इनकी रोजी रोटी चल सके।