ई संजीवनी वर्चुअल ओपीडी के पहले दिन 1295 मरीज़ों ने लिया घर बैठे चिकित्सा परामर्श, प्रदेश के दूरस्थ क्षेत्रों के मरीज़ों को मिला निशुल्क चिकित्सा परामर्श

देहरादून: उत्तराखंड सरकार द्वारा शुरू की गई ईसंजीवनी वर्चुअल ओपीडी के पहले दिन राज्य दूरस्थ क्षेत्रों के साथ ही प्रदेशभर से कुल 1295 मरीजों ने इस सेवा का लाभ उठाया। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के निर्देशों पर उत्तराखंड सरकार द्वारा टेलीमेडिसिन सेवा के साथ वर्चुअल ओपीडी की गुरुवार से ही शुरुआत शुरुआत की गई है। जो लोग किसी वजह से अस्पताल नहीं जा पा रहे उनके लिए ये सेवा बहुत उपयोगी है। इससे कोविड और नॉन कोविड दोनो प्रकार के मरीज़ों को लाभ होगा।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में कोविड-19 का प्रकोप जारी: आज 3998 नए कोरोना मरीज, 19 की मौत, आज देहरादून में 1564 मरीज़

सचिव अमित नेगी ने बताया कि ईसंजीवनी टेलीमेडिसिन वर्चुअल ओपीडी के पहले दिन सुबह 10:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक निशुल्क चिकित्सा परामर्श दिया गया, जिसमें 104 टोल फ्री नंबर के जरिए 347, ई संजीवनी टेलीमेडिसिन के जरिए 405, व्हाट्सएप वॉयस कॉल के जरिए 192, व्हाट्सएप वीडियो कॉल के जरिए 27 जबकि व्हाट्सएप चैट के जरिए 324 मरीजों को निशुल्क चिकित्सा परामर्श दिया गया। पूरे प्रदेश से 1295 लोगों ने इस सेवा का पहले दिन लाभ उठाया। गौरतलब है कि राज्य सरकार की इस विशेष पहल का मकसद दूरस्थ इलाक़ों में रहने वाले लोगों की एक्स्पर्ट डॉक्टर्स के जरिए चिकित्सीय परामर्श देना है। प्रदेश सरकार की इस वर्चुअल ओपीडी का लाभ व्हाट्सएप वीडियो कॉल एवं टोल फ्री हेल्पलाइन के जरिए लिया जा सकता है। राज्य सरकार द्वारा इसके लिए 104 टोल फ्री नंबर जारी किया गया है। इसके साथ ही 9412080622 व्हाट्सएप नंबर के जरिए भी जनता सेवा का लाभ ले सकती हैं।

यह भी पढ़ें: दुखदः गंगोत्री भाजपा विधायक गोपाल रावत नहीं रहे, ब्लड कैंसर से पीड़ित थे गोपाल रावत

इसके साथ ही www.esanjeevaniopd.in/register के माध्यम से भी इस सेवा का लाभ लिया जा सकता है। वर्चुअल ओपीडी रोजाना सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक जारी रहेगी। ईसंजीवनी वर्चुअल ओपीडी के जरिए ह्रदय रोग विशेषज्ञ, ईएनटी विशेषज्ञ, नेत्र विशेषज्ञ, प्रसूति रोग विशेषज्ञ, बाल रोग विशेषज्ञ के अलावा फिजीशियन का चिकित्सकीय परामर्श लिया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें: मुख्य सचिव उत्तराखण्ड ओमप्रकाश पिछले 10 दिन से कोरोना वायरस इंफेक्टेड, संपर्क में समस्त अधिकारी व कार्मिकों को लक्षण महसूस होने पर जांच कराने को हिदायत