अब घरों की पहचान होगी बेटियों के नाम – मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत

ललित जोशी की जोशी;
नैनीताल: सरोवर नगरी नैनीताल नगर में अब घरों की पहचान घर की बड़ी बेटी के नाम से होगी। नगर के करीब आठ हजार चयनित घरों में बकायदा घर की बड़ी बेटी के नाम की, राज्य की पारंपरिक लोक कला ऐपण से सजी नाम पट्टिका-तख्ती भी लगी होगी। उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को मुख्यालय में ‘घरैकि पहचाण-चेलिक नाम’ योजना का शुभारंभ किया और इसे महिला सशक्तीकरण की अन्य योजनाओं से जोड़ते हुए कहा कि उनकी सरकार महिलाओं को पूरी तरह से सशक्त करने की पक्षधर है। इसी हेतु सरकार शीघ्र शुरू होने जा रहे विधानसभा सत्र में महिलाओं को घर के पुरुषों की संपत्ति में अधिकार दिलाने के लिए कानून लाने जा रही है। साथ ही सरकार शुक्रवार को मुख्यमंत्री घसियारी योजना भी लाई है। जिसके जरिये सरकार का लक्ष्य महिलाओं के सिर से चारे का बोझ हटाना है, जैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्जवला योजना के जरिये महिलाओं के सिर से ईधन की लकड़ी का बोझ हटाया है।
त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को पर्यटक आवास गृह सूखाताल में आयोजित एक कार्यक्रम में इस योजना के साथ ही 26 करोड़ रुपए की सूखाताल पुर्नजीवन योजना सहित दो योजनाओं का शिलान्यास एवं पांच योजनाओं का लोकार्पण भी किया। उन्होंने बताया कि सूखाताल अब सूखा ताल नहीं रहेगा, बल्कि यह प्राकृतिक झील, पाथ वे, एक्सलेटर, लिफ्ट, ओपन एयर थियेटर प क्राफ्ट सेंटर जैसी सुविधाओं युक्त पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा। इस मौके पर उन्होंने मुख्यालय में मौजूदा 450 वाहनों की पार्किंग सुविधा को तीन गुना करने की बात भी कही और इसके लिए भवाली में 300, जिला कलक्ट्रेट में 400 वाहनों की बहुमंजिला और फांसी गधेरा में 100 वाहनों की पार्किंग बनाने की घोषणा भी की। महिला सशक्तीकरण के अपने लक्ष्य को आगे बढ़ते हुए उन्होंने राज्य में महिलाओं का घस्यारी योजना के तहत चारा लेने के दौरान होने वाली महिलाओं की अकाल मृत्यु व अंगभंग की घटनाओं को रोकने के लिए 7500 सरकारी स्टोरों के माध्यम से हरा चारा उपलब्ध कराने, महिलाओं के समय एवं श्रम को बेहतर कार्यों में लगाने, उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने, राज्य के 32 हजार महिला समूहों को 5 लाख रुपए के ब्याज मुक्त ऋण देने की योजनाओं की जानकारी भी दी।
इससे पूर्व मुख्यमंत्री का पारंपरिक कुमाउनी परिधानों में सजी महिलाओं ने तिलक लगाकर और छोलिया नर्तकों ने नृत्य प्रस्तुत कर मुख्यमंत्री रावत का स्वागत किया। वहीं अपने संबोधन में विधायक संजीव आर्य ने आज शुरू हो रही योजनाओं के साथ ही अगले ढाई माह में नगर के लिए केंद्र सरकार से स्वीकृत 108 करोड़ रुपए की सीवर ट्रीटमेंट प्लांट योजना का शुभारंभ करने की जानकारी भी दी। साथ ही बताया कि 6.5 करोड़ रुपए से सातताल में प्रदेश का 14वां टूरिज्म टेस्टिनेशन एवं नैनीताल में ओपन एयर थियेटर आदि का निर्माण भी किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने इस दौरान उत्तराखंड उच्च न्यायालय परिसर में प्रदेश के मुख्य न्यायाधीश से भी मुलाकात की।
इस मौके पर नैनीताल सांसद अजय भट्ट, रामनगर के विधायक दीवान बिष्ट, भीमता लके विधायक राम सिंह कैड़ा, केएमवीएन के अध्यक्ष केदार जोशी, मंडलायुक्त अरविंद सिंह ह्यांकी, डीएम धीराज गर्ब्याल, पूर्व विधायक डा. शेलेंद्र मोहन सिंघल, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, केएमवीएन की उपाध्यक्ष रेणु अधिकारी, निदेशक कुंदन बिष्ट, एमडी रोहित मीणा, जीएम अशोक जोशी सहित मनोज साह, संजय वर्मा, गोपाल रावत, आनंद बिष्ट, शांति मेहरा, मारुति नंदन साह, अतुल पाल, विश्वकेतु वैद्य, प्रकाश रावत व रुचिर साह सहित बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता एवं अन्य लोग मौजूद रहे।