अवैध हथियारों का बड़ा तस्कर अवैध हथियारों के साथ गिरफ्तार, सात तमंचों व जिन्दा कारतूस के साथ गिरफ्तार

उधम सिंह नगर: उत्तराखण्ड स्पेशल टास्क फोर्स से जानकारी प्राप्त हुई किं जनपद उधम सिंह नगर के पुलभट्टा क्षेत्र में एक अवैध हथियारों का बड़ा तस्कर अवैध हथियारों की तस्करी करने आ रहा है। जिस सूचना पर एस0टी0एफ0 की कुमॉऊ युनिट से प्रभारी निरीक्षक एम0पी0सिंह के नेतृत्व में एस0टी0एफ0 कुमॉऊ युनिट व पुलभट्टा पुलिस के साथ एक संयुक्त टीम का गठन किया गया। तथा उक्त सूचना पर स्पेशल टास्क फोर्स एवं पुलभट्टा की पुलिस टीम द्वारा पुलभट्टा क्षेत्र में एक बड़े हथियार तस्कर विरेन्द्र पाल पुत्र उमाचरण, निवासी ग्राम गौनेरी दान, पोस्ट जहॉनाबाद, जहॉनाबाद, जिला पीलीभीत, उत्तर प्रदेश, उम्र 47 वर्ष, हाल निवासी खुरपिया फार्म, नाले के पास किच्छा, थाना किच्छा, जिला उधम सिंह नगर को 04 अदद तमंचे 15 बोर, 03 अदद तमंचे 12 बोर, 02 अदद कारतूस जिन्दा 15 बोर, 02 अदद कारतूस जिन्दा 12 बोर नाजायज व एक मोटर साईकिल सख्या- UP26 AF-5771 हीरो डीलक्स के साथ गिरफ्तार किया गया।
अभियुक्त के विरूद्व थाना कोतवाली पुलभट्टा में आर्म्स एक्ट का अभियोग पंजीकृत किया गया। अभियुक्त से बरामद इन तमंचों की कीमत लगभग 1.5 लाख की है। पूछताछ में अभियुक्त ने बताया कि वह इन तमंचो को जहॉनाबाद से 10000 रूपया प्रति तमंचे के हिसाब से खरीद कर लाता है तथा बीस हज़ार रुपये प्रति तमंचे के हिसाब से बेचता है। अभियुक्त के विरूद्व जहॉनाबाद में 10 वर्ष पूर्व मारपीट का अभियोग भी पंजीकृत है। अभियुक्त 10 वर्षो से किच्छा में रहकर पल्लेदारी का कार्य करता है। तथा वह हथियारों का एक शातिर सप्लायर है। जो पहले भी कई बार जहॉनाबाद, पीलीभीत से उत्तराखण्ड के जनपद उधम सिंह नगर में हथियारों की सप्लाई कर चुका है, ऐसा पूछताश से जानकारी अभी तक मिली है।
अभियुक्त इन तमंचों को उधम सिंह नगर जनपद के पुलभट्टा क्षेत्र में सप्लाई करने लाया था। अभियुक्त के आपराधिक इतिहास व इन हथियारों को उत्तराखण्ड में किस-किस को सप्लाई करता था इस सम्बन्ध में अभियुक्त से विस्तृत पूछताछ जारी है।
गिरफ्तारी टीम में एस0टी0एफ0 कुमाँयू युनिट, पन्तनगर टीम से उप निरीक्षक के0जी0मठपाल, का0 गोविन्द सिंह बिष्ट, का0 दुर्गा सिंह पापड़ा, का0 गुरवन्त सिंह, का0 संजय कुमार, का0 किशोर कुमार, का0 सुरेन्द्र कनवाल व पुलभट्टा पुलिस टीम से उप निरीक्षक बसन्त पंत और का0 गोविंद यादव शामिल थे।
प्रभारी स्पेशल टास्क फोर्स द्वारा बताया गया कि एसटीएफ लगातार हथियार तस्करी के कारोबार पर नजर रखी हुई है और कठोर कार्रवाई कर रही है। ऐसे कोई भी अवैध शस्त्रों की सूचना प्राप्त होने पर तुरंत कार्रवाई की जा रही है और अभियुक्तों को पकड़कर जेल भेजा जा रहा है।