सूफी संत ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ के अजमेर में चल रहे 809 वे वार्षिक उर्स के अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने भेजी सद्भावना चादर,

देहरादून: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा है कि भारत मे आदि काल से सूफी, संतों व ऋषियों ने मानवता के कल्याण के लिए अपने जीवन को समर्पित कर वसुधैव कुटुम्बकम के संदेश को पूरे विश्व में फैलाया है। शुक्रवार को सचिवालय में सूफी संत ख़्वाजा ग़रीब नवाज़ के अजमेर में चल रहे 809 वे वार्षिक उर्स के अवसर पर सद्भावना चादर भेजते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा की प्रदेश में शांति, विकास तथा प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा की कामना के साथ गत वर्षों की भांति सद्भावना चादर अजमेर भेजी जा रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सबका साथ, सबका विकास तथा सबका विश्वास के अनुसार उत्तराखंड में गत 4 वर्षों में सभी वर्गों व समुदायों के कल्याण के लिए योजनाओं को लागू किया गया तथा भविष्य में भी ये जारी रहेंगी। यह चादर लेकर दरगाह पीरान कलियर उर्स कमेटी के संयोजक व शायर अफ़ज़ल मंगलोरी व अन्य सदस्य अजमेर जाएंगे जो 22 फरवरी को दरगाह ख़्वाजा साहब में पेश की जाएगी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के सलाहकार डॉ नरेंद्र सिंह, ओ एस डी धीरेंद्र पवार, पिरान कलियर से मनेजर मो हारून, सदस्य इरशाद खान व समीर खान आदि मौजूद रहे।