राज्य में कोरोना, बदहाल स्वास्थ्य सेवाएं व प्रतापनगर की समस्याओं को लेकर कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल मिला स्वास्थ्य सचिव से, सौंपा ज्ञापन

देहरादून: उत्तराखंड में बेकाबू कोरोना संक्रमण, लगातार बढ़ते मामले व संक्रमण के कारण हो रही मौतें, राज्य में ध्वस्त पड़ी स्वास्थ्य सेवाएं, गैरसैण व अल्मोड़ा में गर्भवती महिलाओं की मौत व प्रतापनगर टिहरी में स्वास्थ्य केंद्रों में एक्सरे टेक्नीशियन की नियुक्ति की मांग को लेकर आज कांग्रेस नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना व पूर्व विधायक विक्रम सिंह नेगी के नेतृत्व में स्वास्थ्य सचिव अमित नही से मुलाकात की व उनको मांग पत्र ज्ञापन के रूप में सौंपा।

धस्माना ने स्वास्थ्य सचिव से कहा कि राज्य भर में कोरोना संक्रमण काबू से बाहर हो रहा है और संक्रमित लोगों की संख्या साड़े सोलह हजार के पार चली गयी है व मृतकों की संख्या राज्य में सवा दो सौ पहुंच गई है, किंतु सरकार सरेंडर मोड में नज़र आ रही है। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड कोरोना बुलिटेन: आज 530 ओर कोरोना पॉज़िटिव मरीज़, 6 कोविड पॉज़िटिव मरीज़ों की मौत

धस्माना ने कहा कि कोरोना ने मुख्यमंत्री आवास व राजभवन में भी दस्तक दे दी है और ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसे सामाजिक फैलाव शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि 15 मार्च को जब राज्य में पहला मामला आईएफएस प्रशिक्षुओं का रिपोर्ट हुआ था तब 16 मार्च को उन्होंने सरकार व स्वास्थ्य विभाग को सचेत किया था, किंतु सरकार ने ध्यान नहीं दिया जिसके कारण आज राज्य में स्थितियां नियंत्रण से बाहर हो रही हैं। धस्माना ने मांग की कि सरकार व स्वास्थ्य विभाग को आने वाले दिनों में गंभीर स्थितियों के लिए तैयारियां करनी चाहिए।

धस्माना व नेगी ने पिछले सप्ताह गैरसैण व अल्मोड़ा की घटनाओं में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण गर्भवती युवतियों की मौत के मामले में दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने की मांग की। उन्होंने स्वास्थ्य सचिव से प्रतापनगर टिहरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक्सरे मशीन के लिए एक्सरे टेक्नीशियन नियुक्त करने व क्षेत्र के सभी सीएचसी में एक्सरे मशीन लगाने की मांग की।

स्वास्थ्य सचिव ऐमिटी नेगी ने कहा कि कोरोना संक्रमण बढ़ने की घटनाओं से शासन सरकार व स्वास्थ्य विभाग चिंतित हैं और हम लगातार स्थितियों से निपटने के लिए ठोस रणनीति पर चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि सामाजिक फैलाव की स्थितियों से निपटने की तैयारी भी स्वास्थ्य विभाग कर रहा है।

ऐमिटी नेगी ने कहा कि अल्मोड़ा व गैरसैण में गर्भवती महिलाओं के इलाज में जिस भी स्तर पर लापरवाही हुई होगी, उसकी जांच की जा रही है और दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने प्रतापनगर में एक्सरे टेक्नीशियन की नियुक्ति भी शीघ्र करने का आश्वासन दिया।

प्रतिनिधिमंडल में सूर्यकांत धस्माना, विक्रम सिंह नेगी, साबर सिंह राणा,  पुरषोत्तम थलवाल व  महेश जोशी शामिल थे।

You May Also Like