बागेश्वर में बेटी बचाओ-बेटी पढाओ योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए जिला टॉस्क फोर्स समिति की हुई बैठक, लिए गए यह महत्वपूर्ण फैसले

दीपक जोशी की रिपोर्ट;

बागेश्वर: बेटी बचाओ-बेटी पढाओ योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए जिला टॉस्क फोर्स समिति की बैठक जिलाधिकारी विनीत कुमार की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक के दौरान योजना की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास एवं संबंधित रेखीय विभागों के द्वारा इस योजनान्तर्गत किये गये विभिन्न कार्यकलापों आदि की विस्तार पूर्वक जानकारी ली। बैठक की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं सरकार की एक महत्वपूर्ण योजना है, जिसके धरातलीय क्रियान्वयन के माध्यम से ही समाज में व्याप्त विविधिकरण को कम से कम किया जा सकता है।

वर्तमान समय में यह आवश्यक है कि इस महत्वाकांशी योजना का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करते हुए बेटियों को इस योजना से लाभान्वित करने की दिशा में कार्य करते हुए सभी रेखीय विभाग परस्पर समन्वय एवं सहयोग के साथ दृढ़ इच्छाशक्ति से कार्य करें। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, सुपरवाइजरों आदि के माध्यम से शिक्षा से वंचित बालिकाओं को चिन्हित किया जाय, ताकि गरीब परिवार की बालिकायें भी शिक्षा, तकनीकी आदि के क्षेत्र में गुणवत्तायुक्त शिक्षा प्राप्त कर नवीन ऊंचाइयों को प्राप्त कर सके जिसमें धनाभाव किसी भी रूप में आड़े नहीं आने दिया जाय।

उन्होंने कहा कि वर्तमान कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत बालिकाओं, महिलाओं आदि को कोरोना वायरस से बचाव हेतु सोशल डिस्टेंसिंग, फेस कवर आदि पहलूओं के बारे में अधिक से अधिक जागरूक किया जाय, साथ ही इस कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन हेतु गरीब छात्राओं को शिक्षा आदि के लिए प्रेरित किया जाय, तथा उनकी ई-कांउसलिंग करायी जाय, ताकि इस योजना का लाभ छात्राओं तक पहुॅच सकें।

उन्होनें यह भी निर्देश दियें कि जिन छात्राओं ने किसी कारणवश विद्यालय छोड दिया हैं एवं उनके द्वारा पठन-पाठन का कार्य नहीं किया जा रहा हैं, ऐसी बालिकाओं को चिन्हित कर उसके कारणों की जानकारी प्राप्त करते हुए उन्हें विद्यालयों में पुन: प्रवेश दिलाया जाय। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा प्राप्त कर रही बालिकाओं को स्वरोजगार से जोडने लिए उन्हें कम्प्यूटर एजुकेशन, व्यवसायिक कोर्स हेतु आदि प्रशिक्षण देने के साथ-साथ आत्म सुरक्षा के लिए मार्सल आर्ट का भी प्रशिक्षण दिया जाय, ताकि बालिकायें आत्म सुरक्षा के साथ अपने व्यवसाय को कर सकें।

उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास को यह भी निर्देश दिये कि हर माह वितरित किये जाने वाले टीएचआर, बार्इक, साइकिल रैली, वॉल पेंटिंग आदि अन्य जो भी गतिविधियां आयोजित की जायेगी उसके लिए सभी से फेस कवर, सोशल डिस्टेंसिंग एवं सेनेटाईर्जेशन जैसे पहलूओं का अनुकरण अनिवार्य रूप में कराया जाय ताकि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सकें।

बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास राजेन्द्र बिष्ट ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि बेटी बचाओ-बेटी पढाओ कार्यक्रम के तहत वर्तमान कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत तीनों विकास खण्डों में चिकित्सा विभाग के माध्यम से कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव हेतु वैष्णविक किट का वितरण किया गया है।

इसके अतिरिक्त 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस एवं 26 जनवरी गणतंत्र दिवस जैसे महत्वपूर्ण अवसरों पर बालिकाओं को प्रोत्साहित करने एवं ऐसे अभिभावक जिनके द्वारा बालिकाओं को गोद लिया गया है, को सम्मानित करने हेतु कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया।

उन्होंने अवगत कराया कि इस कार्यक्रम के तहत 1300 बालिकाओं की खून की जॉच करायी गई जिसमें 299 बालिकायें ऐनिमिक पायी गयी, जिन्हें आयरन युक्त आहार उपलब्ध कराया जा रहा हैं। उन्होने यह भी कहा कि भारत सरकार द्वारा वर्ष 2020-21 के लिए प्रथम किस्त जारी हो गयी हैं, जिसके माध्यम से बेटी बचाओ-बेटी पढाओं योजना के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियां एवं कार्यक्रम योजनावार आयोजित कियें जायेगे।

जिला कार्यक्रम अधिकारी ने यह भी अवगत कराया कि जनपद में बाल विकास विभाग एवं रेखीय विभागों द्वारा लॉकडाउन से पूर्व विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये गये हैं, जिसके तहत बीटीएफ एवं टीबीएफ की बैठकें जिला स्तर एवं ब्लॉक स्तर पर आयोजित की गयी हैं, तथा जनपद के विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों में बालिका जन्मोत्सव कार्यक्रम का अयोजन किया गया है। गर्भवती महिलाओं की गोद भराइ कार्यक्रम आयोजन, विभिन्न विद्यालयों में कार्यशाला का आयोजन तथा जनपद में बेटी बचाओ-बेटी पढाओ कार्यक्रम के तहत हस्ताक्षर अभियान, बेटी बचाओ-बेटी पढाओ कार्यक्रम के तहत लोगो में जागरूकता लाने के लिए नुक्कड़ नाटको के माध्यम से प्रचार-प्रसार तथा विभिन्न स्कूलों में वाद-विवाद प्रतियोगिता एवं पेंटिंग प्रतियोगिता का कार्यक्रम आयोजित किये गये।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डी0डी0पंत, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बी0डी0जोशी, उपजिलाधिकारी बागेश्वर राकेश चन्द्र तिवारी, कपकोट प्रमोद कुमार, काण्डा/गरूड़ योगेन्द्र सिंह, अपर परियोजना निदेशक शिल्पी पंत, सीडीपीओ निर्मल सिंह बसेडा, बी.डी.ओ. बागेश्वर आलोक भण्डारी, कपकोट गंगा गिरी गोस्वामी, जिला पंचायत राज अधिकारी रामपाल सिंह सहित संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद रहें।

You May Also Like