जिलाधिकारी रंजना राजगुुरू ने 12 किमी पैदल चलकर आपदा के दृष्टि से संवेदनशील व दुर्गम गॉव में जाकर विभिन्न कार्यों का किया निरीक्षण

दीपक जोशी की रिपोर्ट 

बागेश्वर: जिलाधिकारी रंजना राजगुुरू द्वारा लगभग 12 किमी पैदल चलकर आपदा के दृष्टि से अत्यंत संवेदनशील कपकोट के दुर्गम गॉव खाती पहुॅचकर वहॉ आपदा के दृष्टिगत की गयी तैयारियों एवं विभिन्न निर्माण कार्यों, पर्यटन की गतिविधियों आदि का स्थलीय निरीक्षण करते हुए वहॉ के ग्राम प्रधान एवं स्थानीय जनता से संवाद कर वहॉ की विभिन्न समस्याओं एवं कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव के दृष्टिगत किये गये उपायों आदि के बारे में भी जानकारी ली गयी।

यह भी पढ़ें: SDRF महानिरीक्षक संजय गुंज्याल को कोविड समिति कांटेक्ट ट्रेसिंग का राज्य नोडल का दिया गया दायित्व

उल्लेखनीय है कि खाती गॉव जनपद के दूरस्त एवं आपदा के दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्र है जो मानसून अवधि एवं बर्फवारी के दौरान सर्वाधिक प्रभावित होता है। जिसमें खर्किया से खाती तक केवल पैदल मार्ग है, इस पैदल मार्ग के संबंध में जिलाधिकारी ने अधि0अभि0 पीएमजीएसवाई को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद के दूरस्त गॉव खाती को जोड़ने वाली इस महत्वपूर्ण सड़क का कार्य शीघ्रता पूर्वक कराना सुनिश्चित करें, जिसमें किसी भी स्तर पर आने वाले बाधाओं को दूर करने हेतु नियमित रूप से पत्राचार करते हुए इस संबंध में अद्यतन रिपोर्ट जिला कार्यालय को प्रेषित करें। जनपद के पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण पिण्डारी ग्लेशियर के ट्रेकिंग का मार्ग भी है, इस महत्वपूर्ण ट्रेंकिंग मार्ग का स्थलीय निरीक्षण करते हुए जिलाधिकारी ने जिला पर्यटन अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि इस ट्रेकिंग मार्ग पर विभिन्न स्थानों पर साइनेज बोर्ड आदि अवश्य लगाये जाय। साथ ही ट्रेकिंग मार्ग पर बीच बीच में सार्वजनिक शौचालयों आदि की भी व्यवस्था की जाय, ताकि इस मार्ग से आने वाले ग्राम वासियों, पर्यटकों आदि को इसका लाभ मिल सके।
जिलाधिकारी ने पैदल मार्ग पर हुए भू-स्खलन के कारण मनरेगा द्वारा बनायी गयी सुरक्षा दीवार की गुणवत्ता आदि का निरीक्षण करते हुए संबंधित अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि उक्त स्थल पर सूचना पट्ट आदि अवश्य रूप से लगाया जाय। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये कि चूॅकि खाती जैसे दूरस्त गॉव में आजीविका का मुख्य साधन खेती के साथ साथ पर्यटन भी है जो वर्तमान कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत नकारात्मक रूप में प्रभावित हुआ है। इसलिए उन्होंने आजीविका से जुड़े हुए विभागों को एक मजबूत रणनीति के तहत कार्य करते हुए उनके द्वारा संचालित की जा रही विभिन्न आजीविकाप्रद योजनाओं का लाभ संबंधित क्षेत्र के ग्रामवासियों तक पहुॅचाने के निर्देश दिये, ताकि खाती जैसे दूरस्थ क्षेत्र के आजीविका पर नकारात्मक प्रभाव न पड़े।
खाती गॉव के भ्रमण के दौरान डॉक्टर रावत द्वारा ग्रामीण वासियों को कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव आदि के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गयी। साथ ही उन्होंने ग्रामवासियों को विभिन्न प्रकार के चिकित्सीय प्रामर्श भी दिये। भ्रमण के दौरान ग्राम प्रधान खाती द्वारा अवगत कराया गया कि गॉव में बिजली की समस्या बनी हुए है यद्यपि पोल और लाइन बिछी हुए है किन्तु अभी तक पूर्णत: संचालित नहीं हो पायी है, जिस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि वे बिजली की समस्या के समाधान हेतु उरेडा व यूपीसीएल विभाग से समन्वय कर प्राथमिकता के आधार पर उक्त प्रकरण पर कार्यवाही कराना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने खाती गॉव में नेटवर्क की समस्या के समाधान के संबंध में जिला विकास अधिकारी को एक विस्तृत कार्ययोजना तैयार करते हुए प्राथमिकता के आधार पर समस्या के समाधान करने के निर्देश दिये। ग्राम प्रधान द्वारा ग्राम में राशन कार्ड के नवीनीकरण आदि के संबंध में आने वाली समस्याओं के बारे में अवगत कराया जिस पर जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि तत्काल नियमानुसार कार्यवाही करते हुए समस्या का समाधान किया जाय।

यह भी पढ़ें: सुमाड़ी, उत्तराखंड में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) के नए परिसर के निर्माण लिए 909.85 करोड़ की राशि स्वीकृत – डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक

जिलाधिकारी ने खाती ग्राम के हंस फाउंडेशन द्वारा संचालित पीएससी का भी निरीक्षण किया, और वहॉ की विभिन्न सुविधाओं आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की। यहॉ की व्यवस्थाओं आदि के संबंध में वहॉ तैनात एमबीबीएस डॉक्टर द्वारा जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि इस केन्द्र में 03 डॉक्टर तैनात है जिसमें 02 आयुष डॉक्टर भी है। इसके अतिरिक्त फार्मसिस्ट व लेब टैक्नीसियन एवं एएनएम भी तैनात है। उन्होंने यह भी जानकारी दी कि वर्तमान लॉकडाउन के दौरान इस केन्द्र में 3 संस्थागत प्रसव को सफलतापूर्वक कराया गया है। जिलाधिकारी ने हंस फाउंडेशन द्वारा संचालित इस केन्द्र में चिकित्सा संबंधी की गयी विभिन्न व्यवस्थाओं एवं साफ सफाई आदि पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने वहॉ भर्ती किये गये मरीज से मिलकर उनके स्वास्थ के बारे में जानकारी भी प्राप्त की साथ ही जिलाधिकारी ने स्वास्थ केन्द्र की दवाइयाँ का निरीक्षण करते हुए एक्सपायरी दवाइ आदि के बारे में जानकारी भी प्राप्त की।
निरीक्षण के दौरान उप जिलाधिकारी कपकोट प्रमोद कुमार, जिला विकास अधिकारी के.एन.तिवारी, अपर परियोजना निदेशक शिल्पी पंत, जिला पर्यटन अधिकारी कीर्ति चन्द्र आर्या, जिला पूर्ति अधिकारी अरूण कुमार वर्मा, अधि0अभि0 पीएमजीएसवाई अनिल कुमार, नायब तहसीलदार पूजा एवं संबंधित अधिकारी व ग्राम प्रधान आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने किया कंदीसोड तहसील व विकास खंड कार्यालय सीएचसी का किया औचक निरीक्षण, दिये यह निर्देश

You May Also Like