कांग्रेस के इन नेताओं को पार्टी ने किया 6 साल के लिए निष्कासित, हरीश रावत ने बोला सफेद झूठ, शैतानी से भरा हुआ झूठ

देहरादून: उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अनुशासन समिति के अध्यक्ष प्रमोद कुमार सिंह ने जिला कांग्रेस सेवादल नैनीताल के अध्यक्ष कुलदीप शर्मा एवं हल्द्वानी महानगर की महिला कांग्रेस नेत्री माला वर्मा को पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते 6 साल के लिए तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया है।

यह जानकारी देते हुए प्रदेश महामंत्री संगठन विजय सारस्वत ने बताया कि यह दोनों कांग्रेस पदाधिकारियों द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ लगातार अनर्गल बयानबाजी कर रहे है। उन्होंने कहा कि पार्टी में जिम्मेदार पदाधिकारी के पद पर होने के बावजूद दोनों लोगों द्वारा इस प्रकार का आचरण किया गया जो उनके पदों की गरिमा के अनुरूप नहीं है।

अनुपम खेर की खुद के साथ बातचीत, कहा हम तुष् मात्रे हो गए है, जीरो, हम जीरो ही थे, हमारा दिमाग ख़राब हो गया था! सुनिए उनकी पूरी बातें…..

अनुशासन समिति के अध्यक्ष प्रमोद कुमार सिंह ने कहा कि पार्टी में अनुशासन हीनता को किसी भी प्रकार सहन नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा एक ओर कांग्रेस कार्यकर्ता सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी के मार्गदर्शन में कोरोना महामारी से प्रभावित लोगों की मदद में लगे हैं, वहीं कुछ लोगों द्वारा अनर्गल बयानबाजी की जा रही है, जिसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि अन्य लोगो द्वारा भी शोशल मीडिया में की जा रही इस प्रकार की गतिविधियों का पता लगाकर उनके खिलाफ भी कड़ी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

धारचूला में फंसे नेपाली मजदूरों ने नेपाल के द्वारा झूला पुल नहीं खोले जाने पर किया अन्तराष्टीय पुल पर पथराव, एसडीएम व भारी संख्या में पुलिस बल पहुंचे मौके पर

वहीँ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने लिखा है कि “एक झूठ, सफेद झूठ, शैतानी से भरा हुआ झूठ, प्रचारित करने वालों की में निंदा करता हूँ और इस षड्यंत्रकारी व्यक्ति के खिलाफ मैं, साइबर कानून के अंतर्गत शिकायत दर्ज कर रहा हूँ।” मैं, उत्तराखंड के कांग्रेसजनों से क्षमा प्रार्थी हूँ, प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद को लेकर एक भ्रामक, झूठा, सत्य से कोसों परे समाचार बनाने का प्रयास किया गया है। आप सब इस तरीके के कुप्रयासों की निंदा करें। हम अपने प्रदेश अध्यक्ष के साथ खड़े हैं और इस समय कांग्रेस कोरोना पीड़ित मानवता के साथ खड़ी है। ऐसे वक़्त में इस समय, इस तरीक़े के हास्यास्पद बातें फेसबुक पर डालना और उसके लिये सोशियल मीडिया का दुर्पयोग करना अत्यधिक निंदनीय है।

धारचूला में फंसे नेपाली मजदूरों ने नेपाल के द्वारा झूला पुल नहीं खोले जाने पर किया अन्तराष्टीय पुल पर पथराव, एसडीएम व भारी संख्या में पुलिस बल पहुंचे मौके पर


You May Also Like