गंगा किनारे धड़ल्ले से चल रहा शराब के ठेके और अवैध पार्किंग का खेल!

देहरादून: धर्मनगरी ऋषिकेश में गंगा किनारे मंदिर के पास धड़ल्ले से शराब का ठेका और अवैध पार्किंग का खेल चल रहा है । बार बार प्रशासन से शिकायत करने के बाद भी शासन की ओर से कोई कार्यवाही नहीं की जा रही हैं। शराब के ठेके के समीप न सिर्फ मंदिर है बल्कि कॉलेज भी है। वहीं इसकी आड़ में अवैध पार्किंग और खनन से करोड़ो रूपए की धांधली भी की गई है। मामले में स्थानिए लोगों ने प्रशासन पर गम्भीर आरोप लगाते हुए उग्र आंदोलन करने की चेतवानी दी है। 

प्रदेश में अलग- अलग धांधली के विरुद्ध पिछले तीन महीने से आवाज बुल्द करते हुए आशीष गौड़ का जन आन्दोलन चल रहा हैं। शनिवार को एक पत्रकार वार्ता में  आशीष ने बताया की ऋषिकेश के मुनिकीरेती क्षेत्र में नियमों के विरुद्ध हरिद्वार कुंभ मेला क्षेत्र में  गंगा किनारे शाराब का ठेका खोला गया।  पार्किंग और रेत बज़री में करोड़ो रुपे की धांधली हुई है। उन्होंने बताया कि  तीर्थ स्थल कुम्भ मेला के पास बिना दर के शराब बेची जा रहीं है। सरकार को बहुत बार पत्र लिखा हैं लेकिन सरकार की और से कोई भी कार्यवाही नहीं हुई। आकाश गौड़ ने कहा कि नगरपालिका द्वारा की गयी धांधली से राजस्व को करोडो रुपए का नुकसान हुआ। खेल मैदान में भी धांधली हुई।इतना ही नहीं अप्रेल में पार्किंग टेंडर हुए। उसके बाद से खेल मैदान को अवेध पार्किंग बना दिया गया। तीर्थ नगरी में शराब का ठेका खोला गया है। जिससे सम्बंधित जानकारी अधिकारियों को भेजा हैं। बार बार प्रशासन से शिकायत करने के बाद भी सरकार अनदेखी कर रही है। आरोपियों के विरूद्ध न जांच की जा रही है, न ही कोई उनकी आवाज सुन रहा है।

आशीष गौड़ का कहना है कि जब स्थानिए लोग इस ठेके और पार्किंग के विरुद्ध है, उसके बावजूद शासन द्वारा वहां ठेका कैसे और क्यो खोला गया। नगर पालिका या शराब कारोबारी को सरकार ने तीन साल के लिए लीज पर भूमि कैसे दे दी। उन्होंने सरकार को चेतावनी दी है की यदि जल्द ही ठेका वहां से शिफ्ट नही किया गया तो वह उग्र आंदोलन करने को मजबूर हो जाएगे।

You May Also Like