खनन विभाग के सरकारी पोर्टल पर ऑनलाईन फर्जी रॉयल्टी की कूटरचना कर अवैध खनन का व्यापार करने पर 01 अभियुक्त गिरफ्तार, STF एवं साईबर क्राईम की संयुक्त कार्यवाही

देहरादून: स्पेशल टास्क फोर्स पुलिस, देहरादून द्वारा जानकारी प्राप्त हुई कि दिनांक 14 जुलाई 2020 को रश्मि प्रधान, नोडल अधिकारी भूतत्व एंव खनिकर्म अधिकारी की तहरीर के आधार पर मु0अ0 संख्या- 19/2020 धारा 66, 66सी आई0टी0 एक्ट साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन में पंजीकृत किया गया। वादनी रश्मि प्रधान द्वारा अपनी तहरीर में साईबर क्राईम पुलिस को अवगत कराया गया कि वह स्वंय भूतत्व एंव खनिकर्म विभाग की नोडल है और उनके द्वारा बताया गया कि एक अवैध खनन का मामला प्रकाश में आया है, जिसमें विभाग की ई-रवन्ना पोर्टल के माध्यम से एक फर्जी आई0डी0 संख्या MO61022325 का प्रयोग करके अवैध खनन किया जा रहा है एंव उपरोक्त फर्जी आई0डी0 का डेटा/ विवरण भी अज्ञात लोगों द्वारा डिलिट(नष्ट) कर दिया गया है । अभियोग में फर्जी आई0डी0 संख्या MO61022325 विक्रम सिंह बिष्ट के नाम से पंजीकृत होना पाया गया तथा खनन से जुड़े कई लोगो के विवरण प्राप्त हुये  थे।

यह भी पढ़ें: Video: उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष बंसीधर भगत की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश पर अमर्यादित टिप्पणी, मुख़्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मांगी माफ़ी

STF एवं साईबर क्राईम पुलिस अब तक अभियोग मे 04 अभियुक्तो को गिरफ्तार किया जा चुका है। कल दिनांक 05.01.2021 को एक और अभियुक्त को STF एवं साईबर क्राईम पुलिस द्वारा ऑनलाइन अवैध खनन के कारोबार में गिरफ्तार किया गया है। पूर्व में गिरफ्तार अनिल कुमार के साथी गगन त्यागी पुत्र विनोद कुमार त्यागी, उम्र-45 वर्ष, निवासी निकट भैरव मंदिर कनखल, जनपद हरिद्वार को जब पूछताछ के लिए लाया गया तो उससे पूछताछ पर उपरोक्त अपराध में लिप्त होने की जानकारी STF एवं साईबर क्राईम पुलिस मिली। साथ ही गगन त्यागी से बरामद फोन से मुकदमे से संबंधित फर्जी दस्तावेज भी मिले। उसने पुलिस को बताया कि खनन कारोबार मे जल्दी ज्यादा मुनाफा करने की बजह से वह लालच में फंसकर आपराधिक कार्य कर बैठा।
अभियुक्त से बरामद मोबाईल फोन से भी इस अवैध कारोबार से जुड़े अन्य लोगो के बारे मे भी STF एवं साईबर क्राईम पुलिस को महत्वपूर्ण सूचनायें प्राप्त हुई है। पुलिस का कहना है कि इस अवैध कार्य मे संलिप्त अन्य व्यक्तियों के विरुद्ध शीघ्र विधि सम्मत कार्यवाही की जाएगी। अभियुक्त से विवेचना में प्राप्त हुए साक्ष्यो के आधार पर धारा 420, 471, 201, 120बी भादवि व 66, 66सी आईटी एक्ट के अन्तर्गत गिरफ्तार किया गया है। बरामद कम्प्यूटर उपकरणो को अन्य साक्ष्यो के संकलन हेतु विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा जायेगा।

यह भी पढ़ें: नर्सिंग भर्ती के मानकों में संशोधन करेगी सरकार, मुख्यमंत्री ने सचिव स्वास्थ्य को दिए यह निर्देश

अभियुक्त से 01 अदद मोबाइल फोन, विभिन्न इलैक्ट्रानिक दस्तावेज यथा फर्जी रॉयल्टी, रवन्ना एवं जीएसटी से सम्बन्धित दस्तावेज बरामद किए गए। गठित पुलिस टीम में निरीक्षक अमर चन्द शर्मा, हेड कानिस्टेबल सुरेश कुमार, हेड कानिस्टेबल सुनील भट्ट, कॉ0 मनोज बेनीवाल व का0चालक सुरेंद्र कुमार शामिल थे।